Khajuraho

Khajuraho


We are searching data for your request:

Forums and discussions:
Manuals and reference books:
Data from registers:
Wait the end of the search in all databases.
Upon completion, a link will appear to access the found materials.

Khajuraho was an ancient city in the Madhya Pradesh region of northern India. Despite Khajuraho's once great reputation as an important cultural centre there are no surviving non-religious buildings, but the presence of 35 Hindu and Jain temples make it one of the most significant historical sites in India today and worthy of its name given by the 11th century CE Muslim historian Abu Rihan Alberuni as 'the City of the Gods'. Khajuraho is listed by UNESCO as a World Heritage Site.

Architectural Highlights

Most of the temples at Khajuraho were built using sandstone but four also used granite in their construction. In the latter group is the Chaunsat Yogini (64 tantric goddesses), built c. 875-900 CE, which has 64 shrine rooms arranged around a rectangular courtyard. Next in the site's development came the Lalguan Mahadeva, Brahma, and Matangesvara temples which are all quite plain in design and decoration compared to the later temples.

Hindu temples were representative of the Himalayas and the 'world mountain'

The majority of temples at Khajuraho were constructed between 950 and 1050 CE and are either Hindu (Saiva or Vaisnava) or Jain. The most famous is the Kandariya Mahadeo built in the early 11th century CE and dedicated to Shiva. The more or less contemporary Laksmana temple was built in 954 CE by King Dhanga (r. 950-999 CE) to celebrate independence from the Gurjara-Pratihara rulers and has a similar layout and exterior to the Kandariya Mahadeo. So too does the Visvanatha temple (c. 1002 CE) which was designed by Sutradhara Chhichchha. Both temples have shrines at each corner of their terrace platforms. The Laksmana was dedicated to Vishnu and its terrace is of particular note as it carries a narrative frieze running around all four sides: Elephants, warriors, hunters, and musicians form a procession watched by a ruler and his female attendants.

Other notable temples at the site include the single-towered Caturbhuja and Vamana, the squat Matulunga, and the rectangular, more austere Parshvanatha Jain temple with its unique shrine added to the rear of the building (c. 950-970 CE). Probably the latest temple at Khajuraho is the Duladeo which was built on a star-plan.

The Kandariya Mahadeo Temple

The Kandariya Mahadeo temple is perhaps the most eye-catching building at Khajuraho and it is certainly the largest. Built around 1025 CE during the reign of Vidyadhara (r. 1004-1035 CE), the temple is an excellent example of the fully-developed North Indian temple design. The exterior has a spectacular series of towers (sikharas) which progressively reach higher from the entrance to the tallest sikhara (31 metres) above the temple's sacred shrine (garbhagriha) at the rear. The main sikhara is also surrounded by quarter and half-sikharas and is topped with a large amalaka - a ribbed circular stone. Thus the building appears like a mountain range of diverse peaks, a deliberate intention by the architect as Hindu temples were representative of the Himalayas and the 'world mountain', an effect which would have only been accentuated by its original white gesso coating, now lost.

Love History?

Sign up for our free weekly email newsletter!

Oriented to the east and laid out in a double-cross plan, the temple is built on a high platform base which is accessed by a flight of steps leading to a series of porches. The main porch, or mandapa, has interior polygonal columns with sculpted figure brackets which support a corbelled dome. The whole carries gavakshas – double curved arches. The interior garbhagriha is semi-circular and flanked by passages which lead to exterior balconies with stone awnings.

The Kandariya Mahadeo temple is richly decorated with sculpture; 646 figures on the exterior and 226 inside the building. The majority of figures are a little under one metre tall and arranged in two or three tiers. They are predominantly figures of Shiva and other Hindu deities such as Vishnu, Brahma, Ganesha, along with attendants, surasundaris (celestial maidens), and mithuna (lover) figures.

The erotic sculptures, which include scenes of bestiality, especially those on the south wall of the antarala, are carved in high relief with the figures depicted in all manner of acrobatic poses. Their purpose is to represent fertility and happiness, further, they are also considered auspicious and protective, an important function precisely at the architectural weak point of the building between the garbhagriha and mandapa.


History of Khajuraho

The past of Khajuraho is shrouded with mystery and conjecture. In the midst of the wilderness full of ferocious animals, there is the small town of Khajuraho standing alone in its solitude with its ancient temples. With hardly any written records and rare references to its origin, the history of Khajuraho has become trapped in the mythical folklore of the region. The beautiful artwork of these temples have gained the attention of the art lovers all over the world but the real purpose behind their construction is a mere guess work of the intellectuals. The These temples fire the imagination of the visitors with innumerable questions such as their significance and their position in the society, the reason behind using these temples as an art gallery, the whereabouts of the said kingdom and why only the temples have been found and there are no ruins of the mansions and palaces in the nearby area. The graphic representation of sexual and erotic postures in a religious place is bewildering too.

However, if the myth it is to be believed, Khajuraho was known as 'Khajur-vahika' or 'Khajjurpura' in the ancient times because of its golden date palms (known as 'khajur') that lined the gates of this city. It has been mentioned in the Mahoba-khand of Chandbardai's (the famous medieval court poet) 'Prithviraj Raso' that Hemraj, the royal priest of Kashi (the old name for Varanasi), had an exceptionally beautiful daughter named Hemvati, who was unfortunately a child widow. One summer night, while she was bathing in a lotus-filled pond, the Moon God was so dazed by her beauty that he descended to earth in human form full of lust and passion and ravished her. Later, he repented when the distressed Hemvati threatened to curse him for ruining her honor and dignity and blessed her with a valiant son who would later become a king and build the temples of Khajuraho. Hemvati left her home and gave birth to a brave and strong boy child in the tiny village of Khajjurpura. The child was named Chandravarman and it is said that by the time he was 16 years old, the glorious boy was strong and skilled enough to kill tigers or lions with his bare hands. With the blessings of the Moon God, his father he became a mighty king and built the fortress at Kalinjar. Then heeding to his mother's wishes he built 85 legendary temples surrounded by lakes and gardens at Khajuraho and also performed the bhandya yagya, to wash away the sins of his mother.

Yet another version of the above legend raises Hemvati as a dutiful daughter who sacrificed all her happiness and dignity for her father. Mani Ram, the royal priest of Kalinjar, miscalculated once and declared the dark night as the full moon night or Purnamasi in front of the king. Hemvati, his widowed daughter could not bear the possibility of any stigma on her father's reputation and prayed to the Moon God to uphold the word of the priest. However, she had to pay a heavy price for her wish being granted when the Moon God who was smitten by the lady's beauty ravished her in return for his favor. When Mani Ram came to know of this entire incident, he was so ashamed and grief-stricken that he cursed himself and turned into a stone. However, Hemvati got pregnant with the tryst and gave birth to a virtuous son by the name of sage Chandrateya who is believed to be the founder of the Chandela dynasty. Chandelas worshipped the Mani Ram-turned-stone as Maniya Dev.


अनुक्रम

खजुराहो का इतिहास लगभग एक हजार साल पुराना है। अपने क्षेत्र में खजुराहो की सबसे पुरानी ज्ञात शक्ति वत्स थी। क्षेत्र में उनके उत्तराधिकारियों में मौर्य, सुंग, कुषाण, पद्मावती के नागा, वाकाटक वंश, गुप्त, पुष्यभूति राजवंश और गुर्जर-प्रथारा राजवंश शामिल थे। यह विशेष रूप से गुप्त काल के दौरान था कि इस क्षेत्र में वास्तुकला और कला का विकास शुरू हुआ, हालांकि उनके उत्तराधिकारियों ने कलात्मक परंपरा जारी रखी। [1] य शहर चन्देल साम्राज्‍य की प्रथम राजधानी था। चन्देल वंश और खजुराहो के संस्थापक चन्द्रवर्मन थे। चन्द्रवर्मन मध्यकाल में बुंदेलखंड में शासन करने वाले राजपूत राजा थे। वे अपने आप को चन्द्रवंशी मानते थे। चंदेल राजाओं ने दसवीं से बारहवी शताब्दी तक मध्य भारत में शासन किया। खजुराहो के मंदिरों का निर्माण 950 ईसवीं से 1050 ईसवीं के बीच इन्हीं चन्देल राजाओं द्वारा किया गया। [2] मंदिरों के निर्माण के बाद चन्देलो ने अपनी राजधानी महोबा स्थानांतरित कर दी। लेकिन इसके बाद भी खजुराहो का महत्व बना रहा।

मध्यकाल के दरबारी कवि चंदबरदाई ने पृथ्वीराज रासो के महोबा खंड में चन्देल की उत्पत्ति का वर्णन किया है। उन्होंने लिखा है कि काशी के राजपंडित की पुत्री हेमवती अपूर्व सौंदर्य की स्वामिनी थी। एक दिन वह गर्मियों की रात में कमल-पुष्पों से भरे हुए तालाब में स्नान कर रही थी। उसकी सुंदरता देखकर भगवान चन्द्र उन पर मोहित हो गए। वे मानव रूप धारणकर धरती पर आ गए और हेमवती का हरण कर लिया। दुर्भाग्य से हेमवती विधवा थी। वह एक बच्चे की मां थी। उन्होंने चन्द्रदेव पर अपना जीवन नष्ट करने और चरित्र हनन का आरोप लगाया।

अपनी गलती के पश्चाताप के लिए चन्द्र देव ने हेमवती को वचन दिया कि वह एक वीर पुत्र की मां बनेगी। चन्द्रदेव ने कहा कि वह अपने पुत्र को खजूरपुरा ले जाए। उन्होंने कहा कि वह एक महान राजा बनेगा। राजा बनने पर वह बाग और झीलों से घिरे हुए अनेक मंदिरों का निर्माण करवाएगा। चन्द्रदेव ने हेमवती से कहा कि राजा बनने पर तुम्हारा पुत्र एक विशाल यज्ञ का आयोजन करेगा जिससे तुम्हारे सारे पाप धुल जाएंगे। चन्द्र के निर्देशों का पालन कर हेमवती ने पुत्र को जन्म देने के लिए अपना घर छोड़ दिया और एक छोटे-से गांव में पुत्र को जन्म दिया।

हेमवती का पुत्र चन्द्रवर्मन अपने पिता के समान तेजस्वी, बहादुर और शक्तिशाली था। सोलह साल की उम्र में वह बिना हथियार के शेर या बाघ को मार सकता था। पुत्र की असाधारण वीरता को देखकर हेमवती ने चन्द्रदेव की आराधना की जिन्होंने चन्द्रवर्मन को पारस पत्थर भेंट किया और उसे खजुराहो का राजा बनाया। पारस पत्थर से लोहे को सोने में बदला जा सकता था।

चन्द्रवर्मन ने लगातार कई युद्धों में शानदार विजय प्राप्त की। उसने कालिंजर का विशाल किला बनवाया। मां के कहने पर चन्द्रवर्मन ने तालाबों और उद्यानों से आच्छादित खजुराहो में 85 अद्वितीय मंदिरों का निर्माण करवाया और एक यज्ञ का आयोजन किया जिसने हेमवती को पापमुक्त कर दिया। चन्द्रवर्मन और उसके उत्तराधिकारियों ने खजुराहो में अनेक मंदिरों का निर्माण करवाया।

पश्चिमी समूह संपादित करें

जब ब्रिटिश इंजीनियर टी एस बर्ट ने खजुराहो के मंदिरों की खोज की है तब से मंदिरों के एक विशाल समूह को 'पश्चिमी समूह' के नाम से जाना जाता है। यह खजुराहो के सबसे आकर्षक स्थानों में से एक है। इस स्थान को युनेस्को ने 1986 में विश्व विरासत की सूची में शामिल भी किया है। इसका मतलब यह हुआ कि अब सारा विश्व इसकी मरम्मत और देखभाल के लिए उत्तरदायी होगा। शिवसागर के नजदीक स्थित इन पश्चिम समूह के मंदिरों के दर्शन के साथ अपनी यात्रा शुरू करनी चाहिए। एक ऑडियो हैडसेट 50 रूपये में टिकट बूथ से 500 रूपये जमा करके प्राप्त किया जा सकता है।

इसके अलावा दो सौ रूपये से तीन रूपये के बीच आधे या पूरे दिन में चार लोगों के लिए गाइड सेवाएं भी ली जा सकती हैं। खजुराहो को साइकिल के माध्यम से अच्छी तरह देखा जा सकता है। यह साइकिलें 20 रूपये प्रति घंटे की दर से पश्चिम समूह के निकट स्टैंड से प्राप्त की जा सकती है।

इस परिसर के विशाल मंदिरों की बहुत ज्यादा सजावट की गई है। यह सजावट यहां के शासकों की संपन्नता और शक्ति को प्रकट करती है। इतिहासकारों का मत है कि इनमें हिन्दू देवकुलों के प्रति भक्ति भाव दर्शाया गया है। देवकुलों के रूप में या तो शिव या विष्णु को दर्शाया गया है। इस परिसर में स्थित लक्ष्मण मंदिर उच्च कोटि का मंदिर है। इसमें भगवान विष्णु को बैकुंठम के समान बैठा हुआ दिखाया गया है। चार फुट ऊंची विष्णु की इस मूर्ति में तीन सिर हैं। ये सिर मनुष्य, सिंह और वराह के रूप में दर्शाए गए हैं। कहा जाता है कि कश्मीर के चम्बा क्षेत्र से इसे मंगवाया गया था। इसके तल के बाएं हिस्से में आमलोगों के प्रतिदिन के जीवन के क्रियाकलापों, कूच करती हुई सेना, घरेलू जीवन तथा नृतकों को दिखाया गया है।

मंदिर के प्लेटफार्म की चार सहायक वेदियां हैं। 954 ईसवीं में बने इस मंदिर का संबंध तांत्रिक संप्रदाय से है। इसका अग्रभाग दो प्रकार की मूर्तिकलाओं से सजा है जिसके मध्य खंड में मिथुन या आलिंगन करते हुए दंपत्तियों को दर्शाता है। मंदिर के सामने दो लघु वेदियां हैं। एक देवी और दूसरा वराह देव को समर्पित है। विशाल वराह की आकृति पीले पत्थर की चट्टान के एकल खंड में बनी है।

लक्ष्मी मंदिर संपादित करें

लक्ष्मी मंदिर, लक्ष्मण मंदिर के सामने बना है।

वराह मंदिर संपादित करें

लक्ष्मण मंदिर संपादित करें

कंदरिया महादेव मंदिर संपादित करें

कंदरिया महादेव मंदिर पश्चिमी समूह के मंदिरों में विशालतम है। यह अपनी भव्यता और संगीतमयता के कारण प्रसिद्ध है। इस विशाल मंदिर का निर्माण महान चन्देल राजा विद्याधर ने महमूद गजनवी पर अपनी विजय के उपलक्ष्य में किया था। लगभग 1050 ईसवीं में इस मंदिर को बनवाया गया। यह एक शैव मंदिर है। तांत्रिक समुदाय को प्रसन्न करने के लिए इसका निर्माण किया गया था। कंदरिया महादेव मंदिर लगभग 107 फुट ऊंचा है। मकर तोरण इसकी मुख्य विशेषता है। मंदिर के संगमरमरी लिंगम में अत्यधिक ऊर्जावान मिथुन हैं। अलेक्जेंडर कनिंघम के अनुसार यहां सर्वाधिक मिथुनों की आकृतियां हैं। उन्होंने मंदिर के बाहर 646 आकृतियां और भीतर 246 आकृतियों की गणना की थीं।

सिंह मंदिर संपादित करें

यह मंदिर कंदरिया महादेव मंदिर और देवी जगदम्बा मंदिर के बीच बना है |

सिन्ह मंदिर (कंदरिया महादेव मंदिर और देवी जगदम्बा मंदिर के बीच)

सिन्ह मंदिर (कंदरिया महादेव मंदिर और देवी जगदम्बा मंदिर के बीच)

देवी जगदम्बा मंदिर संपादित करें

कंदरिया महादेव मंदिर के चबूतरे के उत्तर में जगदम्बा देवी का मंदिर है। जगदम्बा देवी का मंदिर पहले भगवान विष्णु को समर्पित था और इसका निर्माण 1000 से 1025 ईसवीं के बीच किया गया था। सैकड़ों वर्षों पश्चात यहां छतरपुर के महाराजा ने देवी पार्वती की प्रतिमा स्थापित करवाई थी इसी कारण इसे देवी जगदम्बा मंदिर कहते हैं। यहां पर उत्कीर्ण मैथुन मूर्तियों में भावों की गहरी संवेदनशीलता शिल्प की विशेषता है। यह मंदिर शार्दूलों के काल्पनिक चित्रण के लिए प्रसिद्ध है। शार्दूल वह पौराणिक पशु था जिसका शरीर शेर का और सिर तोते, हाथी या वराह का होता था।

सूर्य (चित्रगुप्त) मंदिर संपादित करें

खजुराहो में एकमात्र सूर्य मंदिर है जिसका नाम चित्रगुप्त है। चित्रगुप्त मंदिर एक ही चबूतरे पर स्थित चौथा मंदिर है। इसका निर्माण भी विद्याधर के काल में हुआ था। इसमें भगवान सूर्य की सात फुट ऊंची प्रतिमा कवच धारण किए हुए स्थित है। इसमें भगवान सूर्य सात घोड़ों के रथ पर सवार हैं। मंदिर की अन्य विशेषता यह है कि इसमें एक मूर्तिकार को काम करते हुए कुर्सी पर बैठा दिखाया गया है। इसके अलावा एक ग्यारह सिर वाली विष्णु की मूर्ति दक्षिण की दीवार पर स्थापित है।

बगीचे के रास्ते में पूर्व की ओर पार्वती मंदिर स्थित है। यह एक छोटा-सा मंदिर है जो विष्णु को समर्पित है। इस मंदिर को छतरपुर के महाराजा प्रताप सिंह द्वारा 1843-1847 ईसवीं के बीच बनवाया गया था। इसमें पार्वती की आकृति को गोह पर चढ़ा हुआ दिखाया गया है। पार्वती मंदिर के दायीं तरफ विश्वनाथ मंदिर है जो खजुराहो का विशालतम मंदिर है। यह मंदिर शंकर भगवान से संबंधित है। यह मंदिर राजा धंग द्वारा 999 ईसवीं में बनवाया गया था। चिट्ठियां लिखती अपसराएं, संगीत का कार्यक्रम और एक लिंगम को इस मंदिर में दर्शाया गया है।

विश्वनाथ मन्दिर संपादित करें

शिव मंदिरों में अत्यंत महत्वपूर्ण विश्वनाम मंदिर का निर्माण काल सन् १००२- १००३ ई. है। पश्चिम समूह की जगती पर स्थित यह मंदिर अति सुंदरों में से एक है। इस मंदिर का नामाकरण शिव के एक और नाम विश्वनाथ पर किया गया है। मंदिर की लंबाई ८९' और चौड़ाई ४५' है। पंचायतन शैली का संधार प्रासाद यह शिव भगवान को समर्पित है। गर्भगृह में शिवलिंग के साथ- साथ गर्भगृह के केंद्र में नंदी पर आरोहित शिव प्रतिमा स्थापित की गयी है।

नन्दी मंदिर संपादित करें

नन्दी मंदिर, विश्वनाथ मंदिर के सामने बना है | .

नन्दी मंदिर और विश्वनाम मंदिर के बीच का मंदिर

पार्वती मंदिर संपादित करें

प्रकाश एवं ध्वनि कार्यक्रम संपादित करें

शाम को इस परिसर में अमिताभ बच्चन की आवाज़ में लाईट एंड साउंड कार्यक्रम प्रद्रर्शित किया जाता है। यह कार्यक्रम खजुराहो के इतिहास को जीवंत कर देता है। इस कार्यक्रम का आनंद उठाने के लिए भारतीय नागरिक से प्रवेश शुल्क ५० रूपये और विदेशियों से २०० रूपये का शुल्क लिया जाता है। सितम्बर से फरवरी के बीच अंग्रेजी में यह कार्यक्रम शाम ७ बजे से ७:५० तक होता है जबकि हिन्दी का कार्यक्रम रात आठ से नौ बजे तक आयोजित किया जाता है। मार्च से अगस्त तक इस कार्यक्रम का समय बदल जाता है। इस अवधि में अंग्रेजी कार्यक्रम शाम ७:३० -८:२० के बीच होता है। हिन्दी भाषा में समय बदलकर ८:४० - ९:३० हो जाता है। [कृपया उद्धरण जोड़ें]

पूर्वी समूह के मंदिरों को दो विषम समूहों में बांटा गया है। जिनकी उपस्थिति आज के गांधी चौक से आरंभ हो जाती है। इस श्रेणी के प्रथम चार मंदिरों का समूह प्राचीन खजुराहो गांव के नजदीक है। दूसरे समूह में जैन मंदिर हैं जो गांव के स्कूल के पीछे स्थित हैं। पुराने गांव के दूसरे छोर पर स्थित घंटाई मंदिर को देखने के साथ यहां के मंदिरों का भ्रमण शुरू किया जा सकता है। नजदीक ही वामन और जायरी मंदिर भी दर्शनीय स्थल हैं। 1050 से 1075 ईसवीं के बीच वामन मंदिर का निर्माण किया गया था। विष्णु के अवतारों में इसकी गणना की जाती है। नजदीक ही जायरी मंदिर हैं जिनका निमार्ण 1075-1100 ईसवीं के बीच माना जाता है। यह मंदिर भी विष्णु भगवान को समर्पित है। इन दोनों मंदिरों के नजदीक ब्रह्मा मंदिर हैं जिसकी स्‍थापना 925 ईसवीं में हुई थी। इस मंदिर में एक चार मुंह वाला लिंगम है। ब्रह्मा मंदिर का संबंध ब्रह्मा से न होकर शिव से है।

वामन मंदिर संपादित करें

जावरी मंदिर संपादित करें

जैन मंदिर संपादित करें

इन मंदिरों का समूह एक कम्पाउंड में स्थित है। जैन मंदिरों को दिगम्बर सम्प्रदाय ने बनवाया था। यह सम्प्रदाय ही इन मंदिरों की देखभाल करता है। इस समूह का सबसे विशाल मंदिर र्तीथकर आदिनाथ को समर्पित है। आदिनाथ मंदिर पार्श्‍वनाथ मंदिर के उत्तर में स्थित है। जैन समूह का अन्तिम शान्तिनाथ मंदिर ग्यारहवीं शताब्दी में बनवाया गया था। इस मंदिर में यक्ष दंपत्ति की आकर्षक मूर्तियां हैं।

इस भाग में दो मंदिर हैं। एक भगवान शिव से संबंधित दुलादेव मंदिर है और दूसरा विष्णु से संबंधित है जिसे चतुर्भुज मंदिर कहा जाता है। दुलादेव मंदिर खुद्दर नदी के किनारे स्थित है। इसे 1130 ईसवी में मदनवर्मन द्वारा बनवाया गया था। इस मंदिर में खंडों पर मुंद्रित दृढ़ आकृतियां हैं। चतुर्भुज मंदिर का निर्माण 1100 ईसवीं में किया गया था। इसके गर्भ में 9 फुट ऊंची विष्णु की प्रतिमा को संत के वेश में दिखाया गया है। इस समूह के मंदिर को देखने लिए दोपहर का समय उत्तम माना जाता है। दोपहर में पड़ने वाली सूर्य की रोशनी इसकी मूर्तियों को आकर्षक बनाती है।

चतुर्भुज मंदिर संपादित करें

यह मंदिर जटकारा ग्राम से लगभग आधा किलोमीटर दक्षिण में स्थित है। यह विष्णु मंदिर निरधार प्रकार का है। इसमें अर्धमंडप, मंडप, संकीर्ण अंतराल के साथ- साथ गर्भगृह है। इस मंदिर की योजना सप्ररथ है। इस मंदिर का निर्माणकाल जवारी तथा दुलादेव मंदिर के निर्माणकाल के मध्य माना जाता है। बलुवे पत्थर से निर्मित खजुराहो का यह एकमात्र ऐसा मंदिर है, जिसमें मिथुन प्रतिमाओं का सर्वथा अभाव दिखाई देता है। सामान्य रूप से इस मंदिर की शिल्प- कला अवनति का संकेत करती है। मूर्तियों के आभूषण के रेखाकन मात्र हुआ है और इनका सूक्ष्म अंकन अपूर्ण छोड़ दिया है। यहाँ की पशु की प्रतिमाएँ एवं आकृतियाँ अपरिष्कृत तथा अरुचिकर है। अप्सराओं सहित अन्य शिल्प विधान रुढिगत हैं, जिसमें सजीवता और भावाभिव्यक्ति का अभाव माना जाता है। फिर भी, विद्याधरों का अंकन आकर्षक और मन को लुभाने वाली मुद्राओं में किया गया है। इस तरह यह मंदिर अपने शिल्प, सौंदर्य तथा शैलीगत विशेषताओं के आधार पर सबसे बाद में निर्मित दुलादेव के निकट बना माना जाता है।

चतुर्भुज मंदिर के द्वार के शार्दूल सर्पिल प्रकार के हैं। इसमें कुछ सुर सुंदरियाँ अधबनी ही छोड़ दी गयी हैं। मंदिर की अधिकांश अप्सराएँ और कुछ देव दोहरी मेखला धारण किए हुए अंकित किए गए हैं तथा मंदिर की रथिकाओं के अर्धस्तंभ बर्तुलाकार बनाए गए हैं। ये सारी विशेषताएँ मंदिर के परवर्ती निर्माण सूचक हैं।

दुल्हादेव मन्दिर संपादित करें

यह मूलतः शिव मंदिर है। इसको कुछ इतिहासकार कुंवरनाथ मंदिर भी कहते हैं। इसका निर्माणकाल लगभग सन् १००० ई. है। मंदिर का आकार ६९ न् ४०' है। यह मंदिर प्रतिमा वर्गीकरण की दृष्टि से महत्वपूर्ण मंदिर है। निरंधार प्रासाद प्रकृति का यह मंदिर अपनी नींव योजना में समन्वित प्रकृति का है। मंदिर सुंदर प्रतिमाओं से सुसज्जित है। इसमें गंगा की चतुर्भुज प्रतिमा अत्यंत ही सुंदर ढ़ंग से अंकित की गई है। यह प्रतिमा इतनी आकर्षक एवं प्रभावोत्पादक है कि लगता है कि यह अपने आधार से पृथक होकर आकाश में उड़ने का प्रयास कर रही है। मंदिर की भीतरी बाहरी भाग में अनेक प्रतिमाएँ अंकित की गई है, जिनकी भावभंगिमाएँ सौंदर्यमयी, दर्शनीय तथा उद्दीपक है। नारियों, अप्सराओं एवं मिथुन की प्रतिमाएँ, इस तरह अंकित की गई है कि सब अपने अस्तित्व के लिए सजग है। भ्रष्ट मिथुन मोह भंग भी करते हैं, फिर अपनी विशेषता से चौंका भी देते हैं।

इस मंदिर के पत्थरों पर "वसल' नामक कलाकार का नाम अंकित किया हुआ मिला है। मंदिर के वितान गोलाकार तथा स्तंभ अलंकृत हैं और नृत्य करती प्रतिमा एवं सुंदर एवं आकर्षिक हैं। मंदिर के गर्भगृह में शिवलिंग योनि- वेदिका पर स्थापित किया गया है। मंदिर के बाहर मूर्तियाँ तीन पट्टियों पर अंकित की गई हैं। यहाँ हाथी, घोड़े, योद्धा और सामान्य जीवन के अनेकानेक दृश्य प्रस्तुत किये गए हैं। अप्सराओं को इस तरह व्यवस्थित किया गया है कि वे स्वतंत्र, स्वच्छंद एवं निर्बाध जीवन का प्रतीक मालूम पड़ती है।

इस मंदिर की विशेषता यह है कि अप्सरा टोड़ों में अप्साओं को दो- दो, तीन- तीन की टोली में दर्शाया गया है। मंदिर, मंण्डप, महामंडप तथा मुखमंडप युक्त है। मुखमंडप भाग में गणेश और वीरभद्र की प्रतिमाएँ अपनी रशिकाओं में इस प्रकार अंकित की गई है कि झांक रही दिखती है। यहाँ की विद्याधर और अप्सराएँ गतिशील हैं। परंतु सामान्यतः प्रतिमाओं पर अलंकरण का भार अधिक दिखाई देता है। प्रतिमाओं में से कुछ प्रतिमाओं की कलात्मकता दर्शनीय एवं सराहनीय है। अष्टवसु मगरमुखी है। यम तथा नॠत्ति की केश सज्जा परंपराओं से पृथक पंखाकार है।

मंदिर की जगती ५' उँची है। जगती को सुंदर एवं दर्शनीय बनाया गया है। जंघा पर प्रतिमाओं की पंक्तियाँ स्थापित की गई हैं। प्रस्तर पर पत्रक सज्जा भी है। देवी- देवता, दिग्पाल तथा अप्सराएँ छज्जा पर मध्य पंक्ति देव तथा मानव युग्लों एवं मिथुन से सजाया गया है। भद्रों के छज्जों पर रथिकाएँ हैं। वहाँ देव प्रतिमाएँ हैं। दक्षिणी भद्र के कक्ष- कूट पर गुरु- शिष्य की प्रतिमा अंकित की गई है।

शिखर सप्तरथ मूल मंजरी युक्त है। यह भूमि आम्लकों से सुसज्जित किया गया है। उरु: श्रृंगों में से दो सप्तरथ एक पंच रथ प्रकृति का है। शिखर के प्रतिरथों पर श्रृंग हैं, किनारे की नंदिकाओं पर दो- दो श्रृंग हैं तथा प्रत्येक करणरथ पर तीन- तीन श्रृंग हैं। श्रृंग सम आकार के हैं। अंतराल भाग का पूर्वी मुख का उग्रभाग सुरक्षित है। जिसपर नौं रथिकाएँ बनाई गई हैं, जिनपर नीचे से ऊपर की ओर उद्गमों की चार पंक्तियाँ हैं। आठ रथिकाओं पर शिव- पार्वती की प्रतिमाएँ अंकित की गई हैं। स्तंभ शाखा पर तीन रथिकाएँ हैं, जिनपर शिव प्रतिमाएँ अंकित की गई हैं, जो परंपरा के अनुसार ब्रह्मा और विष्णु से घिरी हैं। भूत- नायक प्रतिमा शिव प्रतिमाओं के नीचे हैं, जबकि विश्रांति भाग में नवग्रह प्रतिमाएँ खड़ी मुद्रा में हैं। इस स्तंभ शाखा पर जल देवियाँ त्रिभंगी मुद्राओं में है। मगर और कछुआ भी यहाँ सुंदर प्रकार से अंकित किया गया है। मुख प्रतिमाएँ गंगा- यमुना की प्रतीक मानी जाती है। शैव प्रतिहार प्रतिमाओं में एक प्रतिमा महाकाल भी है, जो खप्पर युक्त है।

मंदिर के बाहरी भाग की रथिकाओं में दक्षिणी मुख पर नृत्य मुद्रा में छः भुजा युक्त भैरव, बारह भुजायुक्त शिव तथा एक अन्य रथिका में त्रिमुखी दश भुजायुक्त शिव प्रतिमा है। इसकी दीवार पर बारह भुजा युक्त नटराज, चतुर्भुज, हरिहर, उत्तरी मुख पर बारह भुजा युक्त शिव, अष्ट भुजायुक्त विष्णु, दश भुजा युक्त चौमुंडा, चतुर्भुज विष्णु गजेंद्रमोक्ष रूप में तथा शिव पार्वती युग्म मुद्रा में है। पश्चिमी मुख पर चतुर्भुज नग्न नॠति, वरुण के अतिरिकत वृषभमुखी वसु की दो प्रतिमाएँ हैं। उत्तरी मुख पर वायु की भग्न प्रतिमा के अतिरिक्त वृषभमुखी वसु की तीन तथा चतुर्भुज कुबेर एवं ईशान की एक- एक प्रतिमा अंकित की गई है।


Architectural Designs Of The Temples In Khajuraho

Even though the temples of Khajuraho are primarily inspired by Indo-Aryan architecture, the main inspiration behind the temples’ designs is Nagara-style architecture. As most of the temples are constructed by granite and sandstone, they look gorgeous during the daytime. Almost every one of the temples in Khajuraho has Mandala design. You will notice, the idols residing in the temples are portrayed to be co-dependent on one another. We have already mentioned that there is a total of 22 temples in Khajuraho. Now, they are divided into three zones- Western, Eastern, and Southern.

You will find the Ghantai temple, Adinath temple, Parasvanath temple, Brahma temple, Hanumana temple, Vamana, and Javari temple in the eastern block of temples.

In the Western group of temples, you will get to see Chitragupta temple, Chausat Yogini temple. Kandariya Mahadeo temple, Lakshmana temple, Jagambi temple, Vishwanath temple, Matangeshwara temple, and Varaha temple.

Finally, in the Southern block of temples, you will find Dulhadev temple, Chaturbhuj temple, Beejamandal temple, and Jatkari temple.

The unique aspect about every temple in Khajuraho is that all of them are built facing towards to sun. It is common in most Hindu temples in India, but in the Khajuraho group of temples, the same thing applies to Jain temples.


History of Khajuraho

Built during the reign of Chandella dynasty between 950 – 1050 today only 20 temples are in intact position. However, as per mythology Khajuraho temples was built by the son of MON God who saw a beautiful maiden taking bath in a stream.

Today out of 85 temples which were originally built, ony 20 remain. Iit is out of these 20 the Kandariya Mahadeva is the most famous one.

The temples here were originally built 35 kms from the medieval city of Mahoba, in Kalinjar region. This beautiful city founds mention in Abu Rihan – al-Biruni – the Persain historian’s writings. It is said that these were in use till 12th century.

However, after the attack of Muslim Sultan Qutb-ud-din-aibak and thereafter fall of Chandela reign, they were slowly abandoned.

One can also find mention of these beautiful idols in memoirs of Ibn Battuta, the Moroccan traveler who describes them as “contains idols that have been mutilated by the Moslems, live a number of yogis whose matted locks have grown as long as their bodies.

Most of the structures of Khajuraho are made out of sandstone. However, the uniqueness is in the fact that no mortar has been used to join the stones. Stones were put together using mortise and tenon joints and held in place by gravity.

Over 90% of the sculptures depict daily life as well as symbolic values as per ancient Indian culture. What can be seen here is hybrid imaginary animals with lions body, hybrid of wolf and lion and hybrid of elephant and lion are called Vyalas.

Today these are maintained by Archeological Survey of India and monitored by World Heritage Convention under the pact of UNESCO World heritage Sites treaty.


Architecture of Temples

The name Khajuraho is gotten from its Sanskrit classification ‘Kharjuravahaka’ which is the intersection of two Sanskrit words ‘Kharjur’ which means date palm and ‘Vahaka’ which means conveyor. There are around 25 sanctuaries spread over a territory of roughly 6 square Km. Here, each chamber has its own separate pyramidal roof rising in gradual steps so that the final sanctum’s roof towers up, surrounded by similar spires, finally forming a graceful rising stepped pyramid. These 25 temples (out of the original 85) are regarded as one of the world’s greatest artistic wonders.

The temples have a highly individualistic architectural character and are generally small in size. Each temple is divided into three main compartments – The cells or garbha griha, as assembly hall or mandapa, and an entrance portico or ardha mandapa. Some temples also contain the antarala or vestibule to the cella and the transepts or maha- mandapa. The Kendriya Mahadev Temple is the largest and most beautiful of the Khajuraho Temples. The temple is decorated with a profusion of sculpture with intricate details, symbolism, and expressiveness of ancient Indian art. The Shiva Temple at Visvanath and the Vishnu Temple at Chaturbhanj are other important temples at Khajuraho.

Normally the temples here are built of sandstone, but the Chausath Yogini, Brahma, and Lalguana Mahadev temples are built of granite (kanasham). The temples here are built on high plinths without any garb. The outer walls of this beautiful temple are also carved with deities, women, and many other stone carvings. The entrance to this temple is adorned with small statues of Suryadev. Travelers coming here are often mesmerized by the beauty of the temple.


Information about Khajuraho Temple – खजुराहो मंदिर के बारे में जानकारी

खजुराहो मंदिरों और मूर्तिकला का वर्गीकरण

खजुराहो के मंदिरों को तीन प्रमुख भागों में वर्गीकृत किया गया है। वो हैं:

  • मंदिरों का पश्चिमी समूह
  • मंदिरों का पूर्वी समूह
  • मंदिरों का दक्षिणी समूह

खजुराहो मंदिरों ने भारत के इस्लामी आक्रमणों को कैसे झेला

Information about Khajuraho Temple :- समय-समय पर महमूद गजनी और मुहम्मद गोरी जैसे मुस्लिम आक्रमणकारियों ने भारतीय मंदिरों और अन्य ऐतिहासिक और सांस्कृतिक स्थानों पर छापा मारा। गुजरात के सोमनाथ का मंदिर इन छापों का सबसे अच्छा गवाह है। एक दिलचस्प तथ्य यह है कि, खजुराहो मंदिर विदेशी आक्रमणकारियों के प्रकोप से बच गए।

अबू रिहान-अल-बिरूनी (फारसी इतिहासकार) के अनुसार, महमूद गजनी ने 1022 ईसा पूर्व के अपने छापे में खजुराहो मंदिरों पर आक्रमण किया था। मंदिरों को तब बचाया गया जब महमूद गजनी और खजुराहो के राजा के बीच शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए गए और राजा फिरौती देने के लिए सहमत हो गए।

दिल्ली सल्तनत और मुग़ल आक्रमणों के समय खजुराहो में मंदिरों के जीवित रहने के कारण लोग अन्य स्थानों पर चले गए और कुछ समय के लिए वनस्पति और जंगलों ने मंदिरों को उखाड़ फेंका और अलग किया। मंदिर भारत के बुंदेलखंड क्षेत्र में स्थित हैं और कोई बड़े शहर नहीं थे।

इसके अलावा, इलाके के आसपास की पहाड़ियों ने मंदिर को भविष्य की शत्रुता से बचाया। कुछ शताब्दियों के भीतर, मंदिरों को ताड़ के पेड़ों के घने जंगल के नीचे कवर किया गया था और इस अवशेष और अलगाव ने मंदिरों को मुस्लिम शासकों द्वारा निरंतर विनाश से बचाया।

वर्ष 1838 में, खजुराहो मंदिरों की खोज ब्रिटिश सेना के इंजीनियर कप्तान टी.एस. चोट लगना। यह भी माना जाता है कि 600 साल के अलगाव के दौरान कई योगी और हिंदू गुप्त रूप से भगवान शिव की पूजा करने के लिए महा शिवरात्रि का त्योहार मनाने के लिए मंदिर गए थे।

History of Khajuraho Temple – खजुराहो मंदिर का इतिहास

क्या भारत में खजुराहो मंदिरों पर ही कामुक मूर्तियां और चित्र पाए जाते हैं?

History of Khajuraho Temple in Hindi :- जवाब न है। भारत में कई मंदिरों पर और न केवल खजुराहो के मंदिरों पर कामुक मूर्तियां और पेंटिंग मिल सकती हैं। अजंता (दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व) और एलोरा (5 वीं से 10 वीं शताब्दी) मंदिरों पर कामुक और नग्न मूर्तियां पाई जा सकती हैं, कोणार्क में सूर्य मंदिर, हम्पी में विरुपाक्ष मंदिर, भुवनेश्वर में लिंगराज मंदिर और कई और।

हिंदू धर्म के मान्यताओं के अनुसार, मंदिरों में यौन गतिविधियों का चित्रण एक अच्छा शगुन माना जाता था क्योंकि यह नई शुरुआत और नए जीवन का प्रतिनिधित्व करता था। कामुक मूर्तियों का चित्रण भारत के किसी भी मंदिर से एक दृश्य हो सकता था, लेकिन खजुराहो के मंदिरों का राजा के रूप में होना ही सब कुछ है।

ध्यान देने वाली एक महत्वपूर्ण बात यह है कि प्रदर्शित की गई मूर्तियों और चित्रों में से केवल 10% ही कामुक कार्य के रूप में हैं और बाकी मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं, पौराणिक कहानियों के साथ-साथ धर्मनिरपेक्ष और आध्यात्मिक मूल्यों के एक प्रतीकात्मक प्रदर्शन पर केंद्रित हैं। हिंदू परंपरा। देवताओं और देवताओं, योद्धाओं, संगीतकारों, जानवरों और पक्षियों के चित्र भी हैं। कई इतिहासकारों और पुरातत्वविदों राज्य:

Architecture and structure of Khajuraho temple – खजुराहो मंदिर की वास्तुकला और संरचना

खजुराहो मूर्तिकला छवियाँ और संदेश वे व्यक्त करते हैं?

Khajuraho Temple ka Jivan Parichay :- जैसा कि पहले कुछ लोगों द्वारा गलत सूचना के कारण उल्लेख किया गया था कि मंदिर केवल यौन रूप से स्पष्ट विधियों का चित्रण करते हैं, इसलिए अधिकांश आगंतुक केवल कामुक मूर्तियों की खोज करने का प्रयास करते हैं।

उनके काल में महिलाओं को श्रृंगार, संगीतकारों को संगीत, कुम्हार, किसान, और अन्य लोगों को उनके जीवन के दौरान दिखाने वाली मूर्तियों की एक बड़ी संख्या है। मंदिरों में भी हजारों मूर्तियाँ और कलाकृतियाँ हैं और इनमें से केवल कुछ मूर्तियों की नक्काशी में यौन विषय और विभिन्न यौन मुद्राएँ हैं।

मंदिर की बाहरी दीवारों में यौन चित्र हैं और मंदिर और गर्भगृह की भीतरी दीवारों में कोई कामुक मूर्तियां नहीं हैं। मूर्तियां और चित्र मानव जीवन के विभिन्न पहलुओं को जन्म से लेकर मृत्यु तक शिक्षा, विवाह, और हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण अन्य गतिविधियों को शामिल करते हैं।

चूंकि सेक्स भी मानव जीवन का एक अनिवार्य हिस्सा है, इसलिए, अन्य छवियों को उकेरते समय भी इसे महत्व दिया गया था। इसके अलावा, कामुक मूर्तियां अन्य मूर्तियों की तुलना में न तो प्रमुख हैं और न ही जोर दिया गया है और वे गैर-यौन छवियों के साथ आनुपातिक संतुलन में हैं।

How many temples are there in Khajuraho – खजुराहो में कितने मंदिर है?

खजुराहो में मंदिरों का निर्माण चंदेल वंश के दौरान किया गया था, जो 950 और 1050 के बीच अपने चरम पर पहुंच गया था। केवल 20 मंदिर ही बचे हैं वे तीन अलग-अलग समूहों में आते हैं और दो अलग-अलग धर्मों से संबंधित हैं – हिंदू धर्म और जैन धर्म।

List of temples in Khajuraho – प्रमुख खजुराहो मंदिरों की सूची

कंदरिया महादेव मंदिर

कंदरिया महादेव मंदिर खजुराहो में सबसे बड़ा मंदिर है। कंदरिया महादेवा का अर्थ है “गुफा का महान देवता”। मंदिर में भगवान शिव मुख्य देवता हैं और इसे चंदेला राजा विद्याधारा द्वारा बनाया गया है। इतिहासकारों के अनुसार कंदरिया महादेव मंदिर तब बनाया गया था जब महमूद गज़नी राजा विधाधारा के किले पर कब्जा करने में असमर्थ थे।

वामन मंदिर भगवान विष्णु के अवतार वामन को समर्पित है। इस मंदिर की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह है कि यहां सहायक नस्लों को छोड़कर कामुक दृश्य अनुपस्थित हैं।

देवी जगदम्बी मंदिर

देवी जगदंबी मंदिर को जगदंबिका मंदिर के रूप में भी जाना जाता है और मंदिर देवी पार्वती को समर्पित है। प्रारंभ में, मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित था लेकिन बाद में देवी पार्वती की मूर्ति यहां स्थापित की गई।

वराह मंदिर भगवान विष्णु के एक अवतार वराह को समर्पित है। मंदिर के गर्भगृह में पशु रूप में वराह की एक छवि है।

लक्ष्मण मंदिर

खजुराहो में लक्ष्मण मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। गर्भगृह में सात ऊर्ध्वाधर पैनल हैं और इसे भगवान विष्णु के विभिन्न अवतारों से सजाया गया है। इसमें भगवान कृष्ण के जीवन के साथ नक्काशी की गई मूर्तियां भी शामिल हैं जैसे नाग कालिया का वध और दानव पुतना का वध। इन मंदिरों में भगवान विष्णु की तीन सिर वाली और चार भुजाओं वाली प्रतिमा भी है जिसे वैकुंठ विष्णु के नाम से जाना जाता है।

History of Khajuraho Temple in Hindi / खजुराहो मंदिरों का इतिहास

विश्वनाथ मंदिर

विश्वनाथ मंदिर एक बेहतरीन खजुराहो मंदिर है और यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। विश्वनाथ शब्द का अर्थ है “ब्रह्मांड के भगवान”। मंदिरों की दीवार में प्यार करने वाले जोड़ों और विभिन्न पौराणिक जीवों की नक्काशी है। मंदिर में नंदी बैल (भगवान शिव का पर्वत) को समर्पित एक मंदिर भी है।

जवारी मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। मंदिर के प्रवेश द्वार में नवा-ग्रहा (नौ ग्रह) को दर्शाती मूर्तियां हैं। इसमें भगवान ब्रह्मा, भगवान विष्णु और भगवान शिव की मूर्तियां भी हैं।

चतुर्भुज मंदिर

चतुर्भुज मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है और चतुर्भुज शब्द का अर्थ है भगवान विष्णु का वर्णन करने वाली चार भुजाएं, क्योंकि उन्हें “चार भुजाओं वाले भगवान” के रूप में भी जाना जाता है। चतुर्भुज मंदिर एकमात्र खजुराहो मंदिर है जिसमें कामुक मूर्तियों के साथ-साथ सूर्योदय का सामना करने वाला एकमात्र मंदिर है। गर्भगृह में चार भुजाओं वाले भगवान विष्णु की एक बड़ी छवि है।

दुलदेव मंदिर

दुलदेव मंदिर को कुंवर मठ भी कहा जाता है और यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर का मुख्य कक्ष आकार में अष्टकोणीय है और केंद्र में एक लिंगम रखा गया है। सतह के चारों ओर 999 और लिंगों को उकेरा गया है जो दर्शाता है कि लिंगम के चारों ओर घूमना 1,000 बार परिधि लेने के बराबर होगा।

पार्श्वनाथ मंदिर

पार्श्वनाथ मंदिर खजुराहो में एक जैन मंदिर है और यह जैन धर्म के पहले तीर्थंकर को समर्पित है। यह खजुराहो में सबसे बड़ा जैन मंदिर है।

आदिनाथ मंदिर एक अन्य महत्वपूर्ण जैन मंदिर है जो जीना आदिनाथ को समर्पित है। मंदिर आकार में छोटा है और पार्श्वनाथ मंदिर के उत्तर में स्थित है।


The secret of making erotic idols at Khajuraho temples

No one has an exact answer as to what was the secret of making such sculptures on Khajuraho temples. but by some different scholars of the world, different reasons are given behind the making of these idols. So let us know about some famous reasons for making these idols.

Primary Reason-: The biggest reason for making these erotic idols in Khajuraho temples is associated with a legend. It has been told in this story that Hemvati, the daughter of Hemraj, a famous Brahmin Rajpurohit living in Kashi , used to be very beautiful.

One day in the evening, Hemvati was taking a bath in a pond when the sight of the moon i.e. Chandradev fell on Hemvati. Seeing the beauty of Hemvati drenched in the water of the pond, Chandradev gave his heart to her at that very moment. He could not stop himself even after wanting to change his form and immediately reached Hemvati.

Chandra Dev kidnapped her to get Hemvati and took her with him to the forest. After going to the forest, Hemvati also fell in love with him, and from this union, Hemvati gave birth to a son whom she named Chandra Varman.

Fearing society, Hemvati raised her son in the forest. She wanted to make her son a great ruler from the very beginning. Chandravarman grew up and laid the foundation of the Chandela dynasty and fulfilling his mother’s dream, he became a great king and a heroic ruler.

One night Chandravarman’s mother Hemvati came into his dream and asked Chandravarman to build such a temple which would send the message to the society that like other important things in a person’s life, his sexual desire is also an important part of life and his Fulfilling sexual desires is not a sin of any kind.

After seeing this dream, Chandravarman was determined that he would fulfill this wish of his mother in any case, and after much deliberation, he chose Khajuraho city for the construction of these temples. For this, he first made Khajuraho the capital of his empire, and then in this capital, he made a huge sacrifice of 85 altars.

Later these 85 grand temples were built in place of these altars, which are still famous for their beauty and artifacts in the world, and According to this legend, in this way, these temples came into existence inside the world and that is why such idols have been made on them.

Secondary Reason-: Many explorers say that these idols were made so that the people who come here, after eliminating all kinds of indulgences from their minds, go inside the temple with a clean mind.

In fact, these scholars said that man cannot get rid of his luxuries until he himself experiences them and these idols were made on the outer walls of the temple only to make people feel their luxury.

These idols have been made in such a way that every person going to the temple definitely has their eyes on them and thus because of these idols people enter these temples with a clean mind.

Third Reason-: An argument is also given behind making such idols that in the era when these temples were built, Buddhism was spreading very fast and under the influence of Buddhism, most of the youth of that time left their homes and became celibate.

It is said that such idols were made all over the country including Khajuraho only to entice those youths again towards household life. Actually, the people of Hindu and Jain religion wanted to explain to the youth that salvation can be achieved even by adopting a householder’s life, that is why such temples were built at different places.

Fourth Reason-: One of the reasons for making these idols on these temples is also told that during the Chandela dynasty there used to be a community of Tantriks in this kingdom and the people of this community at that time considered both yoga and enjoyment as means of attaining salvation.

They wanted to convey this thing to society and that is why they had built such idols on these temples. You will be surprised to know that India’s famous spiritual guru “Rajneesh Osho” has described these idols as the best heritage of the spiritual world.

In fact, Osho in his discourse “From sex to mausoleum”. He had openly expressed his views on these temples of Khajuraho. He has said that even after seeing the statues of naked sex in Khajuraho, you will not feel that there is anything dirty in them.

You will not think that the thinking of the creator was dirty, here, seeing these sex idols, one experiences peace and purity, which is very surprising. Osho had said that those who cannot control their desires should go to see these temples.

Because they believed that if a person pays attention to these idols made on the walls of temples for an hour, then his lust can end forever. He considered these idols to be the best objects of meditation.

Similarly, different people have a different opinion and thinking behind making these temples and idols of Khajuraho. By the way, whatever may have been the right reason for making them, but seeing them, one thing can be said that the artisans who made them must have been really amazing talent,

that is why even in that era, without the help of any modern technology, they built such tremendous structures. What do you think, what would have been the reason behind making these erotic sculptures, definitely tell us by commenting.


History of Khajuraho


Khajuraho, well-known as a heritage of India, has gone through very interesting history. The glorious past of the city has linked up with so many myths and legends and really, they sound very interesting and appealing to listen again and again.

Khajuraho was supposed to be constructed by the Chandella rulers in the between the era 900 to 1130 AD. It is not like that all the magnificent temples in Khajuraho were built by one Chandella ruler but it was ongoing task and each and every Chandella ruler has created atleast one temple in Khajuraho. How the city got its name!! It is as simple as that the abundance of palms trees in the city and almost all the entrance gate was edged by two palm trees. The Hindi version of &ldquoDate&rdquo is &ldquoKhajura&rdquo and this is how the place got its name!

According to one legend, it was believed that Moon God got attracted towards the widow daughter named Hemavati, of the king and she devoted herself to him just to retain the dignity of her father. Chandravarman, the son born to widow Hemavati as a result of being enraptured by God Moon, became the first ruler of the entire Chandela dynasty.

As the time passes and the Chandela dynasty came to an end, the Khajuraho went into the severe destruction which was later discovered in early 19 th century.


Getting to Khajuraho

About 8 hours from Agra or Lucknow, Khajuraho is not exactly the most obvious stop on a traveller’s route, but it’s worth visiting. There’s an airport with flights to and from Delhi and Varanasi, and the town is well served by train services from across India. The temples themselves are scattered, and walking or cycling between them is pleasant and easy. There are several accommodations, and the nearby Panna Tiger Reserve makes it a more appealing overnight stop.


Watch the video: Khajuraho: Sambhog Se Samadhi Tak Part 01. Khajuraho Tour Guide. Khajuraho Tour Plan. MP Vlog 02